What is Satta Matka? सट्टा मटका क्या होता है ?

NEW DELHI: Satta Matka is a kind of gambling/lottery that had originated before the Indian Independence. Originally, the game involved betting on the opening and closing rates of cotton as transmitted to the Bombay Cotton Exchange from the New York Cotton Exchange, via teleprinters. The modern-day Matka gambling is based on random number selection and betting. Players are required to choose the right number for winning the game. The player who wins the game becomes Satta King and is rewarded financially.

Two of the most famous Matka games are – Kalyan and Worli. The Worli Matka gambling was started by Kalyanji Bhagat, a farmer from Gujarat, in 1962 and it ran for all days of the week. Another Matka gambling, New Worli Matka, was started by the Rattan Khatri in 1964 with slight modifications to the rules of the game. Khatri’s Matka ran only five days a week, from Monday to Friday.

सट्टा मटका एक तरह की लॉटरी गेम है इसकी शुरुआत अमेरिका में हुई थी लेकिन भारत में भी यह काफी लोकप्रिय हो चुका है। यह एक तरह का सट्टा गेम है। इसे मटका इसलिए कहा जाता है क्योंकि पुराने समय में मटके में नंबर डाले जाते थे। भारत में सट्टा मटका खेलना गैरकानूनी है लेकिन लोग फिर भी इसे खेलते हैं। सट्टा मटके में कई नंबर होते हैं जिसमें से एक यूनिक नंबर पर ही लॉटरी निकलती है अगर आपका वो नंबर निकल गया तो आप मालामाल हो जाएंगे अगर नहीं निकला तो सारे पैसे गंवा देंगे।

भारत में इस खेल की शुरुआत 1960 से मानी जाती है जब मटके अंदर स्लिप रखी जाती या नंबर निकाले जाते। उस समय नंबर निकालने के लिए मिट्टी के मटके इस्तेमाल किया जाता था इसलिए इसे सट्टा मटका कहा जाने लगा। टेक्नोलॉजी के विस्तार के कारण अब कई तरह के सट्टा मटका ऑनलाइन खेले जाते हैं यहां तक कि इसके कई ऐप्स भी मौजूद हैं। पुलिस से बचने के लिए लोग इसे खेल को ऑनलाइन भी खेलते हैं क्योंकि इसमें पकड़े जाने के चांस बहुत कम होते हैं।